कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लॉन्च किया itat e-dwar portal

केंद्रीय कानून और न्याय, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री, रविशंकर प्रसाद ने 25 June को औपचारिक रूप से नई दिल्ली में ITAT e-Dwar आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण (Income Tax Appellate Tribunal) (ITAT), का ई-फाइलिंग पोर्टल लॉन्च किया है। नव विकसित ई-फाइलिंग पोर्टल पार्टियों को अपनी अपील, विविध आवेदन, दस्तावेज, पेपर बुक आदि इलेक्ट्रॉनिक रूप से दर्ज करने में सक्षम करेगा।

ITAT e-dwar Portal विभिन्न पक्षों द्वारा अपीलों, आवेदनों और दस्तावेजों को ऑनलाइन दाखिल करने में सक्षम बनाएगा। ITAT के अध्यक्ष न्यायमूर्ति पी.पी. भट्ट ने इस अवसर पर उपस्थित लोगों को बताया कि ई-फाइलिंग पोर्टल ‘itat e-dwar’ के शुभारंभ से ITAT के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में पहुंच, जवाबदेही और पारदर्शिता बढ़ेगी। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के अनुसार, आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण (ITAT) के ई-फाइलिंग पोर्टल के शुभारंभ को देश में डिजिटल माध्यम से होने वाले परिवर्तन के एक बड़े आख्यान के रूप में देखा जाना चाहिए।
Law Minister Ravi Shankar Prasad launched itat e dwar portal

कानून मंत्री ने Digital India की सुविधा के बारे में बताया

पोर्टल का शुभारंभ करते हुए मंत्री ने डिजिटल इंडिया की सुविधा को परिभाषित किया। उन्होंने उल्लेख किया कि डिजिटल इंडिया का अर्थ है विशेषज्ञता की सुविधा के साथ एक आम भारतीय को सशक्त बनाना I उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि लगभग 129 करोड़ भारतीय आबादी आधार के लिए नामांकित है जो किसी की शारीरिक पहचान के लिए एक डिजिटल पहचान है। लगभग 40 करोड़ बैंक खाते गरीबों के लिए खोले गए और आधार कार्ड से लिंक किये गए है।

Natrax भारत के इंदौर में बना एशिया का सबसे लंबा हाई स्पीड ट्रैक

डिजिटल इंडिया की सुविधा का उपयोग करते हुए लगभग 16.7 लाख करोड़ रुपये प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के रूप में गरीबों के खाते में स्थानांतरित किए गए हैं, जिससे 1.78 लाख करोड़ रुपये की बचत हुई है, जो कि किसी भी अन्य मामले में, बिचौलियों द्वारा छीन लिया जाता था। डिजिटल इंडिया ने हमारे देश को डिजिटल फंड में विश्व प्रमुख के रूप में स्थापित किया है। इस बात पर प्रकाश डाला जाना चाहिए कि आधार, डीबीटी, यूपीआई और स्वास्थ्य योजना, आयुष्मान भारत, सभी ‘मेड इन इंडिया’ हैं। कानून मंत्री ने विस्तार से बताया कि कैसे महामारी और लॉकडाउन के दौरान न्यायपालिका ने डिजिटल माध्यमों से काम किया और एक करोड़ से अधिक मामलों को सुना।

‘ITAT e-Dwar’ पोर्टल का उद्देश्य और विशेषताएं

  • ‘ITAT e-Dwar’ पोर्टल का उद्देश्य आईटीएटी के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में पहुंच, जवाबदेही और पारदर्शिता को बढ़ाना है I
  • इससे न केवल कागज के उपयोग में बचत होगी और लागत बचत होगी बल्कि मामलों के निर्धारण का युक्तिकरण भी होगा जिससे मामलों का तुरंत निपटान होगा।
  • e-filing portal पार्टियों को अपनी अपील, विविध आवेदन, दस्तावेज और पेपर बुक इलेक्ट्रॉनिक रूप से फाइल करने में सक्षम करेगा।
  • इस पोर्टल के माध्यम से अपील दायर करने या सुनवाई की तारीख, स्थगन, घोषणाएं और निपटान जैसे उनकी अपील के संबंध में सभी संचार अपीलकर्ता के मोबाइल और ई-मेल आईडी पर भेजे जाएंगे।
  • ITAT e-dwar अपने अगले चरण में विशिष्ट बेंचों को पेपरलेस बेंच के रूप में नामित करने का लक्ष्य रखता है और इन पेपरलेस बेंचों में टच स्क्रीन प्रदान की जाएगी ताकि सदस्य अपनी ई-अपील तक पहुंच सकें।

Leave a Comment